बहादराबाद टोल प्लाजा पर चल रहे किसान यूनियन के धरने को राष्ट्रीय लोकदल के पदाधिकारीयों ने दिया समर्थन, जानिए…

हरिद्वार / सुमित यशकल्याण।

हरिद्वार। बुधवार को राष्ट्रीय लोकदल उत्तराखण्ड के पदाधिकारी राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश उपाध्यक्ष चौ.देवपाल सिंह राठी के नेतृत्व में बहादराबाद टोल प्लाजा पर पिछले एक माह से अधिक समय से कृषि कानूनों को रद्द करने को लेकर चलाये जा रहे धरने पर अन्य पदाधिकारियों के साथ अपना समर्थन देने के लिए पहुँचे।
उन्होंने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि आज तक ऐसी असंवेदनशील सरकार नही आई, इससे पहले जो भी सरकार आई उन्होंने किसानों की समस्याओं को धरना स्थल पर अपना प्रतिनिधि भेजकर या किसानों के प्रतिनधि मण्डल को बुलाकर उनसे सकारात्मक वार्ता कर समाधान निकाला, लेकिन इस सरकार ने तीन कृषि कानून किसानों पर थोपकर यह सिद्ध कर दिया है कि इस देश की सरकार किसानों, गरीबों, नौकरीपेशा वालों की नही बल्कि देश के उद्योगपतियों की सरकार है जो उन्हीं के इशारों पर कार्य करती है।
सरकार द्वारा तीन कृषि कानून पास होने से पहले ही अडानी ग्रुप ने देश में कई जगह बड़े-बड़े गोदामो का निर्माण करा दिया जो सैंकड़ो एकड़ में फैले हैं, यह इसका प्रमाण है कि उनका गोदाम बनाना व बाद में कृषि कानून पास होना कोई इत्तफाक नही है बल्कि सरकार और पूंजीपतियों की मिलीभगत है।
पिछले लगभग 08 माह से दिल्ली के चारों ओर बॉर्डर पर किसान संगठनों ने धरना दे रखा है जिसमें अब तक 500 से अधिक किसान अपनी शहादत दे चुके हैं, लेकिन देश के प्रधानमंत्री या सरकार के किसी मंत्री ने उनके प्रति कोई शोक प्रकट नही किया, यह सरकार किसानों की समस्याओं के प्रति गम्भीर नही है।
जिस किसान ने कोरोना काल में भी देश की अर्थव्यवस्था को संभाल कर रखा आज वो ही किसान धूप, बारिश, सर्दी में सड़कों पर बैठने को मजबूर है।
केंद्र सरकार सभी मोर्चों पर फेल रही है। वाशिंगटन के अध्ययन संस्थान सेंटर फॉर ग्लोबल डेवलपमेंट की रिपोर्ट में सरकारी आंकड़ों, अंतर्राष्ट्रीय अनुमानों, सेरोलॉजिकल रिपोर्ट और घरों में हुए सर्वे को आधार बनाया गया। इस रिपोर्ट के लेखक अरविंद सुब्रमण्यम जो मोदी के आर्थिक सलाहकार भी रह चुके हैं के साथ-साथ अभिषेक व जस्टिस सेंडफर ने कहा है कि भारत में मृतको की संख्या हजार या लाख नहीं बल्कि इससे कहीं अधिक 34 से 47 लाख लोगों की मौत हुई है जो सत्य के बहुत करीब है खुद हम लोगों ने कनखल श्मशान घाट व खड़खड़ी श्मशान घाट पर एक दिन में सैंकड़ो लाशें फूंकती हुई देखी हैं।
सरकार आज तक भी सभी देशवासियों को वैक्सीन के टीके नही लगा सकी जो बहुत ही निंदनीय है।
राठी जी ने कहा कि राष्ट्रीय लोकदल किसानों की समस्याओं को लेकर जागरूक है, हम किसानों के धरने को पूर्ण समर्थन करते हैं, उन्होंने कहा कि सरकार तीनों काले कानून इसी सत्र में वापस ले व किसानों से बैठ कर बात करे। देश का आम नागरिक, किसान, मध्यम वर्ग बीजेपी सरकार की नीतियों से तंग आ चुका है। बंगाल की तरह उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड व हरियाणा में बीजेपी को कोई वोट नही देने वाला।
राष्ट्रीय लोकदल समान विचारधारा वाली पार्टियों से तालमेल कर उत्तराखण्ड में विकल्प खड़ा कर चुनाव लड़ेगा।
इस अवसर पर भारतीय किसान यूनियन के अधिकारियों के साथ चौ. देवपाल सिंह राठी, हरपाल सिंह, निरंकार सिंह राठी, रकम सिंह व कृष्णकुमार पुनिया, काजी चाँद आदि सम्मलित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *