देवस्थानम बोर्ड को रद्द करने की मांग को लेकर युवा भारत साधु समाज ने किया प्रदर्शन, देखें वीडियो…

हरिद्वार / सुमित यशकल्याण।

उत्तराखण्ड / हरिद्वार। देवस्थानम बोर्ड को रद्द करने की मांग को लेकर आज युवा भारत साधु समाज ने सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पर जोरदार प्रदर्शन करके बोर्ड को रद्द किए जाने की मांग की और इस संबंध में एक ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम संबोधित सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा, प्रदर्शन के दौरान संतों ने बोर्ड के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और देवस्थानम बोर्ड को रद्द नही किये जाने पर किया आंदोलन करने की घोषणा की। संतों ने साफ कहा कि देवस्थानम बोर्ड किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नही है और यह संतान धर्म पर कुठाराघात है, जिसे संत किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे। संतों ने कहा कि बोर्ड 30 दिन में रद्द नहीं किये जाने पर वे धरना-प्रदर्शन, रैली और उपवास करेंगे।

युवा भारत साधु समाज के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी आनंद गिरि ने कहा कि आज हमें उत्तराखंड सरकार के फैसले पर बहुत अफसोस हो रहा है और क्रोध भी आ रहा है कि विश्व में सबसे शांत सनातन धर्म ही माना जाता है और सबसे ज्यादा आदरणीय परम्परा सनातन धर्म की है, परंतु सरकार जब भी कुठाराघात करती है सनातन धर्म पर करती है, हमारे धर्म में सबसे बड़े तीर्थ बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री के रूप में जानते हैं और मरने से पूर्व एक बार इंसान जरूर दर्शन करना चाहते हैं मगर सरकार उनको अपने अधीन करके दुकान बनाना चाहती है, इसका घोर विरोध करते हैं और अपने देव स्थानों को हम कभी दुकान-मकान नहीं बनेंगे देंगे यह तीर्थ स्थल है, तीर्थ स्थल के रूप में ही रहेंगे, यही हमारी मांग है कि बिना किसी भी लाग लपेट के, बिना किसी विलंब के यदि सरकार देवस्थानम बोर्ड को रद्द नहीं करती है तो कठोर से कठोर परिणाम भुगतने के लिए तैयार हो जाए। हम किसी भी स्थान पर किसी भी सरकारी अधिकारी को नहीं बैठेंने देंगे सब कुछ जो संभव होगा वह किया जाएगा पूरा संगठन हमारे साथ खड़ा है। साधु समाज और जनमानस हमारे साथ हैं और गांधीगिरी का जो रास्ता है धरना-प्रदर्शन उपवास करेंगे पदयात्रा करेंगे लेकिन इस देवस्थानम बोर्ड को किसी भी रूप में स्वीकार नहीं करेंगे।

युवा भारत साधु समाज के अध्यक्ष स्वामी शिवम महंत ने कहा कि अगर अगले 30 दिन तक देवस्थानम बोर्ड रद्द नही किया गया तो पूरे प्रदेश में युवा भारत साधु समाज धरना-प्रदर्शन करेगा और इस देवस्थानम बोर्ड का युवा भारत साधु समाज और जितने भी लोग हमारे साथ जुड़े हैं सब निंदा करते हैं इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

युवा भारत साधु समाज के महामंत्री स्वामी रवि देव शास्त्री ने कहा कि यह मांग बहुत लंबे समय से चली आ रही है 2019 में त्रिवेंद्र सरकार ने बोर्ड को लागू किया था बिना किसी पक्ष को जाने, इस प्रकार के कार्य को कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा यह श्राइन बोर्ड के तर्ज पर बनाया गया इससे प्रदेश में बेरोजगारी और बढ़ जाएगी और बेरोजगार और बढ़ेंगे, पंडा समाज वहां काम करने वाले लोग जो पुरानी परंपरा से बहुत लंबे समय से कार्य करते आ गए हैं हजारों की संख्या में लोगों की रोजी-रोटी जुड़ी है अगर वह छीन लिया जाए तो सरकारी तंत्र तो चंद लोगों को वहां पर बैठाएगा जिससे बेरोजगारी बढ़ेगी इस प्रकार से किसी के हक हकूक को छीन लेना सनातन संस्कृति पर कुठाराघात है जिसे रद्द किया ही जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *