हवन के साथ आनंद आश्रम में श्रीमद् भागवत कथा का समापन…

हरिद्वार। हरिद्वार के आनंद आश्रम में चल रही श्रीमद् भागवत सप्ताह ज्ञान यज्ञ का सोमवार को समापन हो गया। अंतिम दिन भागवत कथा में मुख्य अतिथि के तौर पर पहुंचे उत्तराखंड हाई कोर्ट के पूर्व न्यायमूर्ति एवं उत्तराखंड उपभोक्ता आयोग के अध्यक्ष डीएस त्रिपाठी ने श्रीमद् भागवत कथा का पूजन कर कथा व्यास पंडित राघवेंद्र पाराशर और महंत विवेकानंद महाराज से आशीर्वाद लिया। प्रदीप भाटी और कपिल शर्मा जौनसारी ने माल्यार्पण कर उनका स्वागत किया।

कथा व्यास पंडित राघवेंद्र पाराशर ने सुदामा चरित्र का वर्णन करते हुए कहा कि मित्रता भगवान श्री कृष्णा और सुदामा जैसी होनी चाहिए। सच्चा मित्र वही है, जो अपने मित्र की परेशानी को समझे और बिना बताए ही मदद कर दे। परंतु आजकल स्वार्थ की मित्रता रह गई है। जब तक स्वार्थ सिद्ध नहीं होता है, तब तक मित्रता रहती है। जब स्वार्थ पूरा हो जाता है, मित्रता खत्म हो जाती है।
उन्होंने कहा कि एक सुदामा अपनी पत्नी के कहने पर मित्र कृष्ण से मिलने द्वारकापुरी जाते हैं। जब वह महल के गेट पर पहुंचते है, तब प्रहरियों से कृष्ण को अपना मित्र बताते है और अंदर जाने की बात कहते हैं। सुदामा की यह बात सुनकर प्रहरी उपहास उड़ाते है और कहते है कि भगवान श्रीकृष्ण का मित्र एक दरिद्र व्यक्ति कैसे हो सकता है। प्रहरियों की बात सुनकर सुदामा अपने मित्र से बिना मिले ही लौटने लगते हैं। तभी एक प्रहरी महल के अंदर जाकर भगवान श्रीकृष्ण को बताता है कि महल के द्वार पर एक सुदामा नाम का दरिद्र व्यक्ति खड़ा है और अपने आप को आपका मित्र बता रहा है। द्वारपाल की बात सुनकर भगवान कृष्ण नंगे पांव ही दौड़े चले आते हैं और अपने मित्र को रोककर सुदामा को रोककर गले लगा लिया। कथा व्यास के सुदामा चरित्र का वर्णन सुनकर श्रद्धालु भाव विभोर हो गए।

श्रीमद् भागवत की आरती के साथ कथा का समापन हुआ और इसी के साथ ही आश्रम में विधि विधान से हवन किया गया, जिसमें कई राज्यों से आए श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया और पूर्ण आहुति दी। वहीं रविवार को आश्रम में पण्डोखर सरकार का दिव्य दरबार लगा था, जिसमें दूर दराज क्षेत्र से आए भक्तों ने दिव्या दरबार में अपनी अर्जी लगाई। पंडाल में सैकड़ो भक्त भक्ति भाव में दिखाई दिए और जयकारों से पूरा पंडाल गूंजता नजर आया। पंडोखर सरकार ने बोला कि उनके ऊपर हनुमान बाबा का आशीर्वाद है, जिसके कारण वह ऐसा कर पाते हैं। महंत स्वामी विवेकानंद महाराज ने बताया कि मंगलवार को आश्रम में भव्य नवनिर्मित आनंदेश्वर महादेव मंदिर का लोकार्पण एवं मूर्ति स्थापना प्राण प्रतिष्ठा गणमान्य अतिथियों द्वारा किया जाएगा।

इस अवसर पर आर.वी. शर्मा, पीयूष पांडेय, ऋचा पांडेय, सुशील दीक्षित, प्रदीप भाटी, आलोक नागर, कपिल शर्मा जौनसारी, हरीश भाटी, बल्लू, शिवनारायण भाटी, नितिन मावी, बालकिशन भाटी महावीर मिड्डा, आदि भक्त मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
antalya escortlarantalya travestilerigaziantep escortSahabet girişGüvenilir Slot Siteleri ilbet girişSahabet güncel giriş adresiescortistanbul escortSahabet Girişbahsineasyabahisgoldenbahismarsbahisjojobetmeritkingsahabetmarsbahismarsbahismarsbahismersinescortbahis ve casino giriş